गुरुवार, 15 दिसंबर 2016

11 अप्रैल 2016 को ही लाॅन्च हो गया था UPI

आज कल जिस (UPI) यूपीआई एप्स के बारे में जोर शोर से बताया जा रहा है उसे 11 अप्रैल 2016 को ही आधिकारिक रूप से लान्च कर दिया गया था। जीं हां देश में होने वाले सभी ई पेमेन्टस के लिये प्रमुख बाॅडी
NPCI को रिजर्व बैंक की ओर से भी अगस्त 2016 में क्लियरेंस मिल गई थी, पहले चरण में यह इंटरफेस 21 बैंकों के साथ लाइव हुआ था, जिसमें यूनियन बैंक आॅफ इंडिया, आईसीआईसीआई, एक्सिस बैंक, आन्ध्रा बैंक और कुछ दूसरे बैंक शामिल थे जिनके पास अपना खुद का यूपीआई एप था। वहीं कई बैंकों ने अपना यूपीआई एप तो लांच नहीं किया हां अपने खाताधारकों को यूपीआई एप इस्तेमाल करने की इजाजत दे दी थी।
          यूपीआई भुुगतान प्रणाली को लांच करते समय एनपीसीआई के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ ए.पी. होता ने कहा था कि इस तरह की  मोबाइल एप्लीकेशन के जरिये इतने बड़े पैमाने पर पैसे को तुरंत भेजना और प्राप्त करना दुुनियां में और कहीं नहीं आजमाया गया है। 
          उस समय समाचार माध्यमों अथवा आम जनता ने भी यूपीआई एप्स को कोई खास तवज्जो नहीं दी थी, लेकिन नोटबंदी के बाद मची नकदी की मारा-मारी के बीच सुगमता से लेन-देन के तरीके खोजने में लगे लोगों को यूपीआई ने खासी राहत दी है। 
        हम अपनी इच्छानुसार बैंक के यूपीआई एप्स को गूगल प्ले स्टोर से आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।  

Previous Post
Next Post

0 comments: