रविवार, 25 दिसंबर 2016

शीतल के जनधन खाते में आये सौ करोड़

         जनधन खाता जिसकी लिमिट मात्र पचास हजार रूपये की होती है, उसमे एक-दो, दस- बीस नहीं पुरे सौ करोड़ रूपये आ जाएँ तो चौकना लाजिमी है. कुछ ऐसा ही वाकया हुआ है माधवगंज थाना क्षेत्र, मेरठ की रहने वाली शीतल के साथ.
 शीतल यादव नाम की यह महिला एक फैक्टरी में मात्र पांच हजार रूपये महीने के वेतन पर काम करती है. इस महिला का पति भी एक निजी कंपनी का कर्मचारी है. 
        महिला के पति ने बताया की एटीएम से निकली पर्ची में बैलेंस देखकर मेरा पूरा परिवार हैरान रह गया. शीतल के खाते में 99 करोड़ 99 लाख 99 हजार 394 रुपए बैलेंस दिख रहा था। मुझे यकीन नहीं हुआ तो मैंने दूसरे एटीएम पर स्लिप निकाली। वहां भी यही बैलेंस दिखा।
      महिला शीतल और उसके पति जिलेदार सिंह ने बताया कि उन्होंने बैंक जाकर इसकी शिकायत की, लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई। कहा गया कि बैंक मैनेजर आएंगे, तभी कुछ होगा। दो दिन बाद वो फिर बैंक गए, लेकिन तब भी उनकी शिकायत पर गौर नहीं कि‍या गया। 
       जिलेदार ने बताया कि इसके बाद उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट और एसबीआई के सीनियर ऑफिशियल्स को भी मेल भेजा है।
        महिला शीतल का कहना है कि उसके खाते में सिर्फ 600 रुपए थे, लेकिन अचानक इतने सारे पैसे आ जाने से पूरा परिवार परेशान है। बैंक वाले भी बताने को तैयार नहीं है कि खाते में इतने पैसे कहां से आए।

Previous Post
Next Post

0 comments: