शनिवार, 24 दिसंबर 2016

जानिए विजय शेखर शर्मा ने कैसे की पेटीएम की शुरुआत



 
अपनी पत्नी और बच्चे के साथ विजय
 पेटीएम की स्थापना करने वाले विजय शेखर शर्मा उत्तर प्रदेश के अलीगढ के रहने वाले हैं. उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से पढाई करने वाले विजय जब अपनी आगे की पढाई के लिए दिल्ली स्कूल ऑफ़ इंजीनियरिंग में पहुंचे तो उन्हें बढ़ी दिक्कते आयीं क्योंकि विजय की अंग्रेजी काफी कमजोर थी. दोस्तों की मदद और अंग्रेजी के अखबार, मैगजीन, किताबें पढ़कर विजय ने अपनी अंग्रेजी सुधारी.
       अंग्रेजी तो कुछ ठीक हुई पर बी.टेक में ख़राब आ रहे ग्रेड की वजह से विजय का आत्मविश्वास कमजोर पड़ने लगा. विजय का मन क्लास करने में नहीं लगता था और उन्होंने कॉलेज जाना भी कम कर दिया. विजय हॉटमेल के सबीर भाटिया और याहू की काफी सफलता से प्रभावित थे और कुछ ऐसा ही करने का सपना देखते थे.
         एक साधारण इंसान से सफलता के शीर्ष पर पहुँचने का सफर विजय ने अपने खाली समय का उपयोग सॉफ्टवेयर कोडिंग सीखने में लगाया. विजय का बिज़नस सफ़र कॉलेज के दिनों में ही शुरू हुआ जब उन्होंने मित्रों के साथ मिलकर एक कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम indiasite.net बनाया जिसमे इन्वेस्टर्स ने पैसा लगाया था.
दो साल बाद विजय को अपना यह स्टार्टअप बेचना पड़ा, इसको बेचने से मिले 1 मिलियन डॉलर से विजय ने One97 Communications Ltd. नाम की मोबाइल वैल्यू एडेड सर्विस देने वाली कंपनी खोली. One97 Communications Ltd. मोबाइल के लिए तरह तरह के कंटेंट जैसे एग्जाम रिजल्ट्स, रिंगटोन्स, समाचार, क्रिकेट स्कोर, जोक्स प्रदान करती है.
     अमेरिका की 9/11 त्रासदी का असर मार्केट पर इस कदर पड़ा कि रातोंरात कितने ही बिज़नस तबाह हुए और One97 Communications Ltd. भी इसका शिकार हुआ. Paytm की ग्राहक Hutch और Airtel जैसी बड़ी कम्पनियां समय पर भुगतान नहीं कर पा रही थीं. अपने स्टाफ, कर्मचारियों को सैलरी विजय ने दोस्तों, रिश्तेदारों से 24% की सालाना ब्याज दर पर पैसा लोन लेकर दिया.
विजय के पैसे खत्म हो चुके थे और उन्हें अपने निजी जीवन में भी कई सुविधाओं का त्याग करना पड़ा. विजय कार छोड़कर बस-ऑटो से सफर करने लगे पर सपना देखना नहीं छोड़ा क्योंकि जीतने का राज़ हिम्मत न हारना ही है. पैसे की तंगी बढ़ी तो विजय बतौर कंसलटेंट एक जगह नौकरी करने लगे.
कैसे शुरू हुई पेटीएम
लेकिन विजय का मन नौकरी में नहीं लग रहा था, अपने ऑफिस आते- जाते समय उन्हें अक्सर खुले पैसों की समस्या का सामना करना पड़ता था. इसी समय तेजी से स्मार्टफोन का उपयोग भी बढ़ रहा था. विजय ने सोचा क्यों न कुछ ऐसा किया जाये की फ़ोन के माध्यम से ही छोटे मोटे भुगतान हो सकें और लोंगो को खुले पैसों की समस्या से मुक्ति मिल जाये. इसी विचार को ध्यान में रखकर उन्होंने One97 Communications Ltd. के ही अंतर्गत Paytm.com नाम की वेबसाइट खोली और ऑनलाइन मोबाइल रिचार्ज सुविधा शुरू की. बाज़ार में कई अन्य वेबसाइट भी थीं, जो मोबाइल रिचार्ज की सुविधा देती थी पर Paytm का सिस्टम उनकी तुलना में सीधा-साधा और आसान था.
     Paytm का बिज़नस बढ़ा तो विजय ने Paytm.com में ऑनलाइन वॉलेट, मोबाइल रिचार्ज, बिल पेमेंट, मनी ट्रान्सफर और online शॉपिंग जैसे फीचर भी जोड़ दिए. विजय को उनके प्रयासों और संघर्ष का फल मिला और आज Paytm भारत का सबसे बड़ा मोबाइल पेमेंट और ई-कॉमर्स प्लेटफार्म बन चुका है.
इस समय Paytm के मोबाइल वॉलेट का उपयोग करने वालों की संख्या 15 करोड़ है. देश भर के 10 लाख से ज्यादा दुकानदार, ऑटो-टैक्सी, पेट्रोल पंप, शॉपिंग माल, रेस्टोरेंट, मल्टीप्लेक्स और पार्किंग लॉट पेटीएम से भुगतान स्वीकार करते हैं.
        पेटीएम को भारतीय रिजर्व बैंक की और से पेमेंट बैंक का लाइसेंस मिल चुका है और इस तरह अब पेटीएम मात्रा एक ई वॉलेट ही नहीं बल्कि एक "पेमेंट बैंक" का भी रूप ले चुका है. 
नोटबंदी से चमका किस्मत का सितारा 
8 नवम्बर को हुए देश में हुए नोटबंदी के निर्णय से विजय शेखर शर्मा की किस्मत का सितारा चमक उठा. मात्र एक माह के समय में ही पेटीएम का बिज़नेस कई गुना बढ़ गया.
जब अखिलेश से मिलने पहुंचे रिक्शे से 
उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मिलने के जब विजय शेखर शर्मा रिक्शे से पहुंचे तो अखिलेश यादव द्वारा ट्विटर पर ट्वीट की गई उनकी यह फोटो अख़बारों में खूब सुर्खिया बनी.
Previous Post
Next Post

0 comments: