मंगलवार, 24 जनवरी 2017

अब चलेंगे कॉन्टैक्टलेस एटीएम कम डेबिट कार्ड

     अब बिना स्वाइप किये डेबिट/एटीएम कार्ड से शॉपिंग की जा सकेगी साथ ही पास पैसा भी निकाला जा सकेगा। जी हाँ, अब आपको भुगतान करने के लिए अपने डेबिट कार्ड को दुकानदार की स्वाइप मशीन में कार्ड को स्वाइप करने की जरुरत नहीं, बस कार्ड को मशीन पर टच कराइए और हो गया भुगतान!
   देश में एनएफसी तकनीक वाले कार्डों का चलन जोर पकड़ने जा रहा है, देश के कई बैंकों ने इस तरह के कार्ड अपने ग्राहकों को उपलब्ध करना शुरू कर दिया है. 
भारतीय स्टेट बैंक : SBI InTouch
देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने मई में ही एनएफसी तकनीक पर आधारित अपना एटीएम कम डेबिट कार्ड लांच कर दिया था. यह एक ऐसा प्‍लास्टिक कार्ड है जिसके जरिए ग्राहक बिना स्‍वाइप या डिप किए भुगतान कर पाएंगे। एसबीआई और इसकी क्रेडिट कार्ड ईकाई एसबीआई कार्ड्स ने मिल कर एसबीआईइनटच कॉन्‍टैक्‍टलेस क्रेडिट कार्ड लॉन्‍च किया है। इन कार्ड और जिन पीओएस पर इनके जरिए भुगतान किया जा सकेगा, उन पर एक खास चिह्न [ )))) ] बना होगा।
पंजाब नेशनल बैंक : वेब न पे
पंजाब नेशनल बैंक ने कल "वेब न पे" नाम से अपना कॉन्टेक्ट लेस कार्ड लांच किया है. साथ ही दो हजार तक के लेन-देन के लिया आपको कोई पिन दर्ज करने की भी जरुरत नहीं होगी।
गड़बड़ी पर मिलेगा पूरा पैसा वापस
इस कार्ड में ग्राहकों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा गया है, यदि इसका किसी प्रकार से कोई दुरूपयोग हो जाता है तो ग्राहक को बैंक के द्वारा उसके पूरे पैसे का भुगतान किया जायेगा।

क्या है एनएफसी तकनीक?
कॉन्‍टैक्‍टलेस कार्ड्स में नियर फील्‍ड कम्‍युनिकेशन (एनएफसी) तकनीक का उपयोग किया गया है। आम तौर पर इस तकनीक का इस्‍तेमाल महंगे मोबाइल फोन में डाटा ट्रांसफर के लिए किया जाता है. इस तकनीक पर आधारित कार्ड को भुगतान करने के लिए पीओएस के पास वेव या टैप करना होगा, और इसे स्वाइप या डिप करने की जरूरत नहीं होगी।
यह कार्ड है ज्यादा सुरक्षित

एनएफसी तकनीक, कॉन्टैक्टलेस कार्ड को ज्‍यादा सुरक्षित बनाती है, क्योंकि कार्ड आपके अपने हाथों में ही होता है और इस तरह कार्ड खो जाने और धोखे से इसके इस्तेमाल का खतरा नहीं होता है। व्यस्त जगहों पर भुगतान करने के लिए, ग्राहक पीओएस मशीन पर कार्ड को टैप या वेव कर सकते हैं और आसानी से भुगतान कर सकते हैं.
Previous Post
Next Post

0 comments: