गुरुवार, 5 जनवरी 2017

गूगल लाएगा 2000/- रूपये में शानदार स्मार्टफोन

     भारत में जन्मे और आई. आई. टी. खरगपुर से उच्च शिक्षा प्राप्त करने वाले सुंदर पिचाई गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में आज सफलता के शीर्ष पर हैं. पिछले दिनों भारत आये पिचाई गुरुवार को अपने पुराने दिनों को ताजा करने आई. आई. टी. खरगपुर पहुंचे और विद्यार्थियों से अपने अनुभवों को साझा किया।
       
इस अवसर पर पिचाई ने कहा की भारत को डिजिटल दुनियां में और आगे जाने के लिए स्मार्टफोन की शुरुआती रेंज 2,000 रुपये से शुरू किए जाने की जरूरत है. इससे लोग आसानी से इंटरनेट इस्तेमाल कर सकेंगे और डिजिटल सेवाओं का फायदा उठा सकेंगे.
        उन्होंने कहा की गूगल इस दिशा में तेजी से काम कर रहा है और जल्द ही ऐसे फ़ोन भारत में लांच किये जा सकेंगे। यह फ़ोन अंग्रेजी और हिंदी के साथ-साथ अन्य कई प्रमुख भारतीय भाषाओँ को भी सपोर्ट करेगा।
        आप जानते ही होंगे की इससे पहले 2014 में गूगल ने एंड्रॉयड वन प्रोग्राम पेश किया था जिसके लिए उसने कई मोबाइल निर्माताओं से हाथ मिलाया. इसका मकसद भारत जैसे उभरते बाजारों में अच्छी गुणवत्ता वाले लेकिन कीमत के लिहाज से लोगों की आसान पहुंच में आने वाले एंड्रॉयड डिवाइसों का निर्माण करना था. इस पार्टनरशिप के साथ माइक्रोमैक्स, कार्बन और स्पाइस ने कुछ हैंडसेट पेश भी किए थे.
       उस समय पेश किए गए स्मार्टफोन 5,500 रुपये या इससे ज्यादा कीमत के थे. लेकिन उसके बाद से तमाम अच्छे फीचर्स वाले स्मार्टफोन इससे भी कम कीमत में बाजार में आए. इस वक्त 2,900 रुपये से भी कम कीमत में बाजार में स्मार्टफोन उपलब्ध हैं, लेकिन तकनीकी रूप से ठीक-ठाक स्मार्टफोन 4,500 रुपये से ऊपर कीमत में ही मिल रहा है.
     गूगल की कोशिश है कि तकनीकी रूप से उन्नत स्मार्ट फ़ोन आसानी से लोंगो की पहुँच में आये और इसके लिए इनकी कीमत काम करने की अत्यंत आवस्यकता है
       सुंदर पिचाई ने कहा इफेक्टिव पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप  के चलते डिजिटल इंडिया के लिए तमाम प्रोग्राम जारी किए गए. इनमें रेलवे स्टेशनों पर वाईफाई सेवा के लिए रेलटेल और पेमेंट डिजिटलाइजेशन के लिए एनपीसीआई से पार्टनरशिप भी शामिल थी.
       छात्रों के इस सवाल कि भारत डिजिटल दुनिया में चीन की बराबरी कब कर सकेगा? सवाल के जवाब में पिचाई ने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि भारत डिजिटल इकोनॉमी की दिशा में ग्लोबल प्लेयर बनेगा और डिजिटल इकोनॉमी में दुनिया के किसी भी देश से प्रतिस्पर्धा करने योग्य होगा."
Previous Post
Next Post

0 comments: