शुक्रवार, 13 जनवरी 2017

जानिए पेन कार्ड के नंबर में छुपे हैं क्या राज?

       आजकल PAN कार्ड (परमानेंट एकाउंट नंबर) सिर्फ टैक्स चुकाने के काम ही नहीं आता, बल्कि कई छोटे-बड़े कामों में इस्तेमाल किया जाता है। भले ही तत्काल कोटे में टिकट करानी हो, या फिर नया सिम लेना हो, अधिकतर लोग आईडी प्रूफ के तौर पर पैनकार्ड देना ही पसंद करते हैं।
     पैन कार्ड नंबर एक 10 डिजिट का खास नंबर होता है, व्यक्ति के सारे फाइनेंशियल ट्रान्जैक्शन डिपार्टमेंट के पैन कार्ड से लिंक हो जाते हैं। इनमें टैक्स पेमेंट, क्रेडिट कार्ड जैसे कई फाइनेंशियल लेन-देन डिपार्टमेंट की निगरानी में रहते हैं। 
    लेकिन क्या आप जानते हैं कि पैन कार्ड पर लिखे कोड का क्या मतलब होता है और कैसे ये कई अहम जानकारियां बयां कर देता है। आइए जानते हैं पैन कार्ड पर लिखे कोड का क्या होता है मतलब?
(1) पहले तीन डिजिट
पैन कार्ड नंबर के पहले तीन डिजिट अंग्रेजी के लेटर होते हैं, जो AAA से ZZZ तक कुछ भी हो सकते हैं। यह तीनों डिजिट क्या होंगे, इसे इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तय कर करता है।
(2) चौथा डिजिट 
पैन कार्ड नंबर का चौथा डिजिट भी अंग्रेजी का ही एक लेटर होता है। यह पैन कार्ड धारी का स्टेटस बताता है। इसमें- 
P- एकल व्यक्ति 
F- फर्म 
C- कंपनी 
A- AOP( असोसिएशन ऑफ पर्सन) 
T- ट्रस्ट H- HUF (हिन्दू अनडिवाइडिड फैमिली) 
B-BOI (बॉडी ऑफ इंडिविजुअल) 
L- लोकल J- आर्टिफिशियल जुडिशियल पर्सन 
G- गवर्नमेंट के लिए होता है। 
(3) पांचवां डिजिट 
    पैन कार्ड नंबर में पांचवां डिजिट भी एक अंग्रेजी लेटर होता है, जो कार्डधारक के सरनेम के हिसाब से होता है। यह लेटर कार्डधारक के सरनेम का पहले अक्षर होता है। इसके निर्धारण के लिए सिर्फ व्यक्ति का सरनेम ही देखा जाता है।
(4) 6 To 9 डिजिट 
इसके बाद लगातार 4 डिजिट एक नंबर होते हैं, जो 0001 से 9999 तक कुछ भी हो सकते हैं। यह नंबर उस सीरीज के होते हैं, जो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में उस समय चल रही होती है।
(5) आखिरी डिजिट
    पैन कार्ड नंबर का आखिरी डिजिट एक लेटर होता है, जो एक अल्फाबेट चेक डिजिट होता है।
Previous Post
Next Post

0 comments: