शनिवार, 14 जनवरी 2017

दसवीं के छात्र ने बनाया ड्रोन, गुजरात सरकार से 5 करोड़ की डील

     गुजरात के रहने वाले दसवीं के छात्र हर्षवर्धन जाला ने एक ऐसा ड्रोन तैयार किया है जिससे जमीन के अंदर बिछी बारूदी सुरंगों का पता लगाया जा सकेगा। इस ड्रोन को विकसित करने वाले 14 साल के हर्षवर्धन जाला के साथ गुजरात काउंसिल ऑन साइंस एंड टेक्नोलॉजी ने यह डील साइन की है. अहमदाबाद में हुए वाइब्रेंट गुजरात समिट में हर्षवर्धन ज़ाला ने  सरकार की विज्ञान काउंसिल के साथ 5 करोड़ रुपये का अग्रीमेंट साइन किया है। 
     बारूदी सुरंगों के कारण आये दिन होने वाले देश के वीर जवानों और आम नागरिकों के साथ हादसों की ख़बरों को टीवी और अखबारों पर देखने के बाद हर्षवर्धन ने इस जनहानि को रोकने के लिए कुछ करने का निश्चय किया और इस तरह के ड्रोन का निर्माण किया जिससे न केवल बारूदी सुरंगों का पता लगाया जा सकेगा बल्कि उन्हें नष्ट भी किया जा सकेगा। 
     हर्षवर्धन का कहना है कि "मेरी छह कोशिशें नाकाम रही हैं और सातवीं बार में कामयाबी मिली. पिछले साल फ़रवरी-मार्च में इसे बनाने में मुझे कामयाबी मिली है, लेकिन इस साल अप्रैल-मई तक पूरी तरह से विकसित किया जाएगा. इसमें अभी हम और भी ख़ूबियां डालने वाले हैं."
     गुजरात काउंसिल ऑन साइंस एंड टेक्नोलॉजी के प्रमुख नरोत्तम साहू का कहना है,  "डेमो देखने के बाद हमें हर्षवर्धन के प्रस्ताव में संभावनाएं नज़र आई हैं इसलिए हमने उनकी योजना पर काम करने का फ़ैसला लिया है. उनका यह ड्रोन 100 मीटर के दायरे में 50 फ़ुट की ऊंचाई से बारूदी सुरंग का पता लगाने में सक्षम होगा. "
     वही सरकार की मदद से उत्साहित हर्षवर्धन ने बताया कि सरकार ने फ़ाइनल प्रारूप को बनाने में भी उन्हें तीन लाख की मदद दी थी, उन्हें आशा है की सरकार की मदद और अपनी मेहनत से वह देश हित में ऐसी और भी कई तकनीके लाने का प्रयास करेंगे।
Previous Post
Next Post

0 comments: