बुधवार, 8 फ़रवरी 2017

जल्द हटने वाली है नकदी निकासी की सीमा

     नोटबंदी के बाद से नकदी की कमी के कारण लोगों को आ रही परेशानियों के मद्देनजर आरबीआई ने एेलान किया है कि 20 फरवरी से लोग एक हफ्ते में 50 हजार रुपये निकाल पाएंगे और 13 मार्च के बाद नकदी निकालने पर कोई नियम लागू नहीं होगा। यानी आप कितनी भी रकम निकाल पाएंगे। 
       फिलहाल एक हफ्ते में 24 हजार रुपये ही निकाले जा सकते हैं। 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और हजार के नोटों को अमान्य करार दे दिया था और एटीएम से कैश निकासी की सीमा भी तय कर दी थी। उनके इस एेलान के बाद देश के बैकों और एटीएम में कैश की किल्लत हो गई थी। लोगों को घंटों लाइन में लगना पड़ा था। 
         जैसा कि आपको मालूम ही है कि आम लोगों व छोटे कारोबारियों को बड़ी राहत देते हुए भारतीय रिजर्व बैंक ने सोमवार (30 जनवरी) को एटीएम व चालू खातों से दैनिक नकदी निकासी पर सीमा को समाप्त कर दिया था, लेकिन बचत बैंक खातों से निकासी पर 24000 रुपए की साप्ताहिक सीमा जारी रखी थी।
           केंद्रीय बैंक ने इसके साथ ही वादा किया था कि प्रणाली में नकदी लौटने की गति को ध्यान में रखते हुए वह साप्ताहिक सीमा पर भी भविष्य में फिर से विचार करेगा। केंद्रीय बैंक ने कहा था,‘बाजार में गई नकदी के बैंक में लौटने की गति की समीक्षा करने के बाद पूर्व की स्थिति को आंशिक रूप से बहाल करने का फैसला किया गया है।’ इसके अनुसार एक फरवरी 2017 से एटीएम से नकदी निकासी की दैनिक सीमा नहीं रहेगी। हालांकि बैंकों से अपनी अपनी निकासी सीमा तय करने को कहा गया था जैसा कि वे 8 नवंबर 2016 से पहले कर रहे थे।
    रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर आर. गांधी ने कहा, बैंकों के बचत खातों से नकद निकासी की सीमा फिलहाल बनी रहेगी। नये नोटों के चलन में आने की रफ्तार को देखते हुये निकासी पर लगी सीमा को दो चरणों में हटाने का फैसला किया गया है।
      20 फरवरी से बैंकों के बचत खाते से साप्ताहिक नकद निकासी सीमा 50,000 रपये तक बढ़ा दी जायेगी और उसके बाद 13 मार्च 2017 से बचत खातों से नकद निकासी की कोई सीमा नहीं होगी।
     ये 500 और 2,000 के नकली नोट के बारे में पूछे गये सवाल पर गांधी ने कहा कि हाल ही में जो नकदी नोट पकड़े गये हैं वह असली नोट की फोटोकॉपी थी जिसे आम आदमी भी आसानी से पहचान सकता है। उन्होंने कहा कि नये नोटों में सुरक्षा के कई मानक अपनाये गये हैं जिनकी नकल करना आसान नहीं है। 
Previous Post
Next Post

0 comments: