सोमवार, 26 मार्च 2018

जीवन में सिर्फ एक बार नहातीं हैं यहां लड़कियां, फिर भी शरीर से आती है खुशबू

दोस्तों आमतौर पर यदि हम आप एक दिन भी न नहाये तो शरीर से पसीने की बदबू आने लगती हैं या फिर बिना नहाये हमें कुछ भारी भारी सा लगता है। यदि हम लोग नहाये न तो किसी काम में मन ही नहीं लगता है। साथ ही दोस्तों के बीच अक्सर सर्दियों में एक दो दिन न नहाने वाले लोगों का मजाक भी खूब बनाया जाता है।

Third party image reference
ऐसे में यदि आपसे कहा जाये कि इस दुनियां में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो पूरी जिंदगी में सिर्फ एक बार ही नहाते हैं तो आपको कैसा लगेगा, सुनकर ही आपको आश्चर्य हो रहा होगा कि भला ऐसा कैसे हो सकता है। पर यह खबर पूरी तरह सच है। आज हम आपको जिस जनजाति के बारे में बताने जा रहे हैं वहां कि लड़कियां और महिलायें जीवन में एक बार ही नहातीं हैं।
अफ्रीका का नाॅर्थ वेस्ट नामीबिया के कुनैन नामक प्रांत में रहने वाली हिम्बा जनजाति की महिलायें जीवन में सिर्फ एक बार ही स्नान करतीं हैं, और वह है अपनी शादी के समय। इस जनजाति की महिलाओं नहाना तो दूर अपने कपड़े धोने के लिये भी पानी का इस्तेमाल नहीं करतीं।

Third party image reference

करतीं है जड़ी बूटियों के धुयें का प्रयोग

बिना नहाये भी इनके शरीर से बदबू न आने का कारण यह है कि वह कुछ खास जड़ी बूटियों को उबालकर उसके धुयें से अपने शरीर को फ्रेश रखतीं हैं। इन जड़ी बूटियों के धुयें के प्रभाव से इनकी त्वचा से न नहाने के बाद भी बदबू नहीं आती।

Third party image reference

धूप से बचने को लगातीं हैं खास लोशन

इन जनजाति की महिलायें अपनी त्वचा को धूप और कीटों के काटने से बचाने के लिये एक खास प्रकार के लोशन का प्रयोग करतीं हैं। इस लोशन को जानवरों की चर्बी और एक विशेष खनिज हेमाटाइट की धूल से तैयार किया जाता है। इस लोशन के लगाने की वजह से इन महिलाओं की त्वचा का रंग लाल हो जाता है।
Previous Post
Next Post

0 comments: