शुक्रवार, 3 अगस्त 2018

जहां लिये शिव पावर्ती ने सात फेरे, उसी स्थान पर होगी मुकेश अंबानी के बेटे आकाश की शादी

रिलायंस घराने के मुखिया और देश के सबसे अमीर व्यक्ति के रूप में पहचाने जाने वाले मुकेश अंबानी के बेटे आकाश अंबानी और मशहूर हीरा कारोबारी रशेल मेहता की बेटी श्लोका मेहता की शादी से जुड़ी खबरें काफी समय से सोशल मीडिया में ट्रेंड कर रहीं हैं। पिछले दिनों अंबानी परिवार द्वारा दी गई आकाश श्लोका की भव्य इंगेजमेंट पार्टी पूरे देश की मीडिया में भी सुर्खियों में छायी रही थी।
इस बार फिर एक खास वजह को लेकर यह शादी चर्चा में है, और यह वजह है शादी का स्थान। जी हां, मुकेश अंबानी ने अपने बेटे की शादी के लिये किसी विदेशी डेस्टिनेशन अथवा शानदार रिजोर्ट को न चुनकर एक ऐसे स्थान को चुना है जो धार्मिक दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण स्थान रखता है। इस स्थान के बारे में मान्यता है कि यहीं पर भगवान शिव और माता पार्वती ने अपने विवाह के दौरान सात फेरे लिये थे।
रुद्रप्रयाग जिले में है त्रियुगी नारायण मंदिर
देवभूमि उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थिति त्रियुगी नारायण मंदिर में आकाश और श्लोका की शादी की तैयारियां प्रारम्भ होने वाली है। इस संबंध मंे रिलायंस के अधिकारियों की एक टीम ने यहां पर उत्तराखंड सरकार की ओर से तैयार कराये जा रहे वेडिंग डेस्टिनेशन और मंदिर के बारे में पूरी जानकारी एकत्रित की। वहीं उत्तराखंड सरकार भी इस मौके को भुनाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती, क्यों कि यदि यह हाईप्रोफाइल शादी यहां होती है तो सरकार को बिना पैसा खर्च किये ही जबरदस्त ब्रांडिंग का फायदा मिलेगा। 
मंदिर में जल रही है तीन युगों से ज्वाला
बेहद प्राचीन त्रियुगी नारायण मंदिर के बारे में मान्यता है कि यहां शादी करने वाले जोड़े की जिंदगी बेहद खुशगवार रहती है। इसी मंदिर में भगवान शिव और पार्वती का विवाह हुआ था, आज भी उसकी निशानियां यहां मौजूद हैं। मान्यता है कि मंदिर में जल रही ज्वाला पिछले तीन युगों से यूं ही जल रही है। इसी ज्वाला को साक्षी मानकर भगवान शिव और माता पार्वती ने सात फेरे लिये थे। इस मंदिर में आने वाले श्रद्धालु यहां जल रही ज्वाला की राख अपने साथ ले जाते हैं। मान्यता है कि यह राख वैवाहिक जीवन में आने वाली सभी परेशानियों को दूर कर देती है।
Previous Post
Next Post

0 comments: