बुधवार, 12 दिसंबर 2018

रोता बिलखते पुलिस के पास पहुंचे पति ने कहा, कमरा बंद कर डंडे और बेलन से मारती है पत्नी

यंू तो पुलिस के पास परिवारिक लड़ाई झगड़ों से संबंधित ज्यादातर शिकायतें महिलायें ही लेकर पहुंचती हैं। लेकिन आजकल जब महिला सशक्तिकरण की आंधी चारों ओर चल रहीं है, तो ऐसे में बेचारे पुरूष भी हैरान परेशान है। अब पुलिस के परिवार परामर्श केन्द्रों में आने वाले ऐसे पुरुषों की बहुतायत है जो अपनी पत्नी के आतंक से परेशान हैं।
     
कोई अपनी पत्नी द्वारा मानसिक रूप से परेशान करने का आरोप लगाता है, तो कोई पत्नी द्वारा मारपीट करने का आरोप लगाता है। कुछ भी बेचारी पुलिस भी महिला सशक्तिकरण के इन ज्वलंत उदाहरणों को देखकर हैरान है। अभी हाल ही में लखनउ के ठाकुरगंज निवासी एक युवक ने पुलिस परामर्श केन्द्र में एक प्रार्थना पत्र देकर कहा है कि उसकी पत्नी उसे कमरा बंद कर बेलन और डंडे से बुरी तरह पीटती है, यही नहीं वह अपनी बुजुर्ग सास और ननद को भी नहीं छोड़ती। 
         वहीं लखनउ के ही फैजुल्लागंज के रहने वाले एक व्यक्ति ने अपनी शिकायत में कहा है कि उसकी शादी 21 वर्ष पहले पुरनिया से हुई थी। लेकिन अब उनकी पत्नी उन पर बिना वजह बेहद शक करती है, और आए दिन लड़ाई झगड़ा कर पूरे परिवार को परेशान नहीं करती है। यही नहीं जब उसने पत्नी की इन हरकतों का विरोध किया तो हैवान बनी पत्नी ने बेचारे पति महाशय को इतना पीटा कि उनका हाथ ही टूट गया। इन जनाब की पत्नी की हिम्मत इस कदर बढ़ी है कि कई बार तो पुलिस परामर्श केन्द्र में ही उसने पति की ठुकाई कर दी।        
        पुलिस परामर्श केन्द्र की इंचार्ज बबिता सिंह के मुताबिक ऐसे मामलों में पत्नी का समझाने में बड़ी समस्या आती है। अक्सर इस तरह की महिलायें न तो अपने पति की सुनतीं हैं, और न ही परामर्श केन्द्र पर मौजूद पुलिस कर्मियों अथवा काउंसलों की। दबाब बनाने पर वह तलाक करवाने की धमकी देने लगतीं हैं। यह बात और है कि पुलिस उन्हें समझा बुझाकर परिवार को बचाये रखने की पूरी कोशिष करती है।
Previous Post
Next Post

0 comments: