मंगलवार, 11 दिसंबर 2018

समाज से लड़कर लव मैरिज करने वाली जयपुर की राजकुमारी दिया अब मांग रहीं हैं तलाक

आज से 21 वर्ष पूर्व वह चर्चा में तब आयीं थी जब उन्होंने अपने परिवार ही नहीं बल्कि पूरे समाज से बगावत कर अपने ही गोत्र में नरेन्द्र सिंह से प्रेम विवाह किया था। उनके इस विवाह से राजपरिवार के लोग तो नाराज थे ही पूरे राजपूत समाज में भी काफी आक्रोश था। इसके पीछे का कारण था कि राजकुमारी दिया और नरेन्द्र सिंह दोनों एक ही गोत्र के थे। जाहिर सी बात है इस शादी को परिवार और समाज की ओर से पुरजोर विरोध हुआ, पर अपने निर्णय पर अडिग राजकुमारी ने आखिरकार नरेन्द्र सिंह से शादी रचा ही ली। 

अब एक बार फिर जयपुर राजघराने की यह राजकुमारी चर्चा में है। इस बार भी उनके चर्चा में आने का कारण उनकी निजी जिंदगी ही है। दरअसल राजकुमारी दिया ने 21 साल के वैवाहिक जीवन के बाद अब अपने पति नरेन्द्र सिंह से तलाक के लिये गांधी नगर स्थित फैमिली कोर्ट में अर्जी लगाई है। माना जा रहा है कि कोर्ट जल्द ही दीया कुमारी की अर्जी पर सुनवाई कर सकता है। 

कभी अपनी प्रेम कहानी पर पूरा ब्लाग लिखने वाली दिया कुमारी ने अपने और नरेन्द्र सिंह के रिश्तों के बारे में खुलकर आम जनता को सारी जानकारी दी थी। उन्होंने इस ब्लाॅग में लिखा था कि जब वह पहली बार नरेन्द्र सिंह से मिलीं थीं, तो उनकी उम्र महज 18 साल की थी। वह वर्ष 1989 था, जब नरेन्द्र ग्रेजुएशन करने के बाद चार्टर्ड एकाउंटेंट की तैयारी कर रहे थे। इसी दौरान वह महल में कुछ काम से आये थे, चूंकि मैं भी एकाउंटस में मदद कर रही थी, इसलिये हमारी और उनकी मुलाकात हुई। मुझे उनसे बात करके काफी अच्छा लगा।

दिया लिखतीं हैं कि, उनकी ईमानदारी और केयरिंग स्वभाव मुझे बहुत अच्छा लगा। आमतौर पर भारतीय पुरुषों में यह कम ही देखने को मिलता है। मुझे उनसे पहली नजर में प्यार नहीं हुआ। हां धीरे धीरे जब उनकी अच्छाइयों को जाना तो जरूर लगा कि कुछ तो हो रहा है। इसके बाद जब मुझे अपने माता पिता के साथ विदेश जाना पड़ा तो मुझे वहां नरेन्द्र की काफी याद सताने लगी। इसी समय मुझे महसूस हुआ कि मैं नरेन्द्र को चाहने लगी हूं। लेकिन जब मैने अपनी मां को इस बारे में बताया तो उन्होंने मुझे बहुत डांटा। उधर नरेन्द्र के माता पिता भी हमारे मिलने जुलने के काफी खिलाफ थे। इसके बाद राजकुमारी दिया और नरेन्द्र दोनों ने अपने अपने परिवारों के खिलाफ जाकर अगस्त 1997 में कोर्ट मैरिज कर ली। जाहिर सी बात है इस रिश्ते के परिणामस्वरूप राजपूत समाज ने हमारा भारी विरोध किया। यही नहीं राज परिवार से भी हमारा रिश्ता खत्म कर दिया गया। जयपुर के महाराजा भवानी सिंह की इकलौती बेटी दिया के दो बेटे पद्यनाभ सिंह और लक्ष्यराज सिंह हैं, उनकी एक बेटी भी है जिसका नाम गौरवी है। 
Previous Post
Next Post

0 comments: